प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अपूर्व कुमार ने कहा कि पुरुष नसबंदी कराने से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ता है। सरकार महिलाओं की तुलना में पुरुष नसबंदी कराने पर अधिक प्रोत्साहन राशि दी जाती है। यहां ये भी बता दें कि ये हाल सिर्फ मुंगेर का ही नहीं है। देशभर के कई राज्यों के कई जिलों के आंकड़े कुछ ऐसे ही हैं।