तड़पते मरीज को छोड़ कर चली गईं महिला चिकित्सक

बगहा।डॉक्टरकोधरतीकाभगवानकहाजाताहै।लेकिनसोमवारकोएकमहिलाचिकित्सककीकार्यशैलीखासाआहतकरनेवालीथी।दिनकेकरीब12बजेएकटेंपोपरसवारगंभीरमहिलामरीजअनुमंडलीयअस्पतालपहुंची।मरीजकेपतिमहेंद्रचौधरीनेजाकरखिड़कीपरमरीजदिखानेकेलिएपर्चीकटवाया।उसनेकर्मियोंसेपूछाकिआजआउटडोरमेंमहिलाचिकित्सककौनहै।बतायागयाकिडा.रिजवानाखुर्शीदहै।महेंद्रदौड़करमहिलाओपीडीकक्षमेंपहुंचा।तबतकमहिलाचिकित्सकडॉखुर्शीदकीड्यूटीअवधिसमाप्तहोचुकीथी।वेआउटडोरसेनिकलकरबाहरआगईथीं।मरीजकेपरिजनमहिलाचिकित्सकसेइलाजकरनेकाआग्रहकिए।हाथजोड़तेहुएकहाकिआपइसकीजानबचालें।मरीजकीहालतगंभीरदेखतेहुएएकदोलोगऔरभीमरीजकोदेखनेकेलिएआग्रहकिया।लेकिनउन्होंनेस्पष्टशब्दोंमेंकहामेरीड्यूटीखत्महुई।अबमैंमरीजकोनहींदेखसकती।इसकेबादवेअपनीगाड़ीमेंबैठीऔरचलीगईं।मरीजतड़पतीरही।उनकोतरसनहींआई।आखिरकार,मरीजकेपरिजनउसेलेकरकिसीनिजीक्लीनिकमेंचलेगए।बतायाजाताहैकिअधिकरक्तस्त्रावकेकारणमहिलामरीजकुमारीकिरणकोउसकेपरिजनअस्पतालमेंलाएथे।अस्पतालकीइसव्यवस्थाकोदेखवेक्षुब्धहोकरचलेगए।

-----------------------------------------------------------

बहुतनिर्दयीमहिलाडॉक्टर

नरवल-बरवलकीकुमारीकिरणकीबहनकीबहनरीमादेवीनेबतायाकिइसतरहनिर्दयीडॉक्टरभीहोतेहैं।पहलीबारदेखा।डॉक्टरतोभगवानहोतेहैं।लेकिनयहडॉक्टरतोबड़ीनिर्दयीहै।हाथजोड़कर¨जदगीबचानेकीभीखमांगरहेथे।कहाएकबारदेखलीजिए।लेकिनउन्होंनेकिसीकीनहींसुनी।अगल-बगलमेंकुछचिकित्सकभीथे।लेकिनकिसीनेउनपरदबावनहींबनाया।अगरसरकारकीऐसीव्यवस्थाहैतोकोईकिससेफरियादकरेगा।

------------------------------------------

मैंदेखताहूंकिकिसकीडयूटीथी।मरीजकोतड़पताछोड़करचलेजानागंभीरमामलाहै।मामलेकीजांचकरतेहुएकार्रवाईकियाजाएगा।

डॉ.एस.पी.अग्रवाल,उपाधीक्षकअनुमंडलीयअस्तपालबगहा