सड़क पर तीस किलोमीटर तक बनी थी मानव श्रृंखला

शिवहर।शिवहरकीआनबानऔरशानकेलिए¨सहगर्जनाकरनेवालेरघुनाथझाजैसेअपनेलोकप्रियनेताकोलोगोंनेगमगीनमाहौलकेबीचमंगलवारकोअंतिमविदाईकरदी।वहींआजलोकप्रिय,जनप्रियनेतापूर्वकेंद्रीयमंत्रीरघुनाथझाकेअंतिमदर्शनकोजिलावासियोंकासैलाबसड़कोंपरउमड़पड़ाथा।स्व.झाकापार्थिवशरीररखेवाहनकाजिलाकेप्रवेशद्वारनरवारामेंप्रवेशकरतेहीमानवश्रृंखलाबनाकरशवकेइंतजारमेंखड़ेलोगरघुनाथझाअमररहे,शेरेबिहारअमररहे,अपनेझाजीअमररहेकेजयघोषसेइलाकागूंजातोशिवहरसेलेकरपिपराहीऔरअंबाओझाटोलागांवतकगूंजताचलागया।सड़ककेदोनोंओरखड़ीजनताअपनेचहेतेकाअंतिमदर्शनकरनेकोआकुलथी।जिसेसुरक्षामेंलगीपुलिसकोरोकपानाभारीपड़रहाथा।धीरे-धीरेयहकाफिलाआगेसरकतारहा,हरचौकचौराहेपरपुरुषएवंमहिलाएंअपनेझाजीकाअंतिमझलकपानेकोघंटोंसेखड़ेरहे।वहींशिवहरशहरमेंसड़कपरकतारबद्धजहांलोगथेवहींउतनेघरकेछतोंपरसेभीमानोलोगरघुनाथझाकेएकझलककिसीतरहपानोकोबेचैनथे।