मुंबईः 65 साल की उम्र में अंग्रेजी मीडियम से किया हाई स्कूल, पोते-पोती को गर्व

मुंबईमुंबईकेमीरारोडमेंरहनेवालीमरयमकादरीबुधवारकोअपनीभावनाओंपरकाबूनहींकरपाईं।उनकीआंखोंसेआंसूबहरहेथे।येआंसूखुशीकेथेक्योंकिउन्होंनेहाईस्कूलपासकरलियाथा।उनकाहाईस्कूलपासकरनाइसलिएऔरखासथाक्योंकिउनकीउम्र65वर्षहै।मयमनेनैशनलइंस्टिट्यूटऑफओपनस्कूलिंगसेहाईस्कूलकियाहै।मयरमकेचारबच्चोंकीमांऔरसातबच्चोंकीदादीहैं।मरयमकेबच्चोंनेहमेशाअपनेबच्चोंकोहिंदीऔरऊर्दूमेंपढ़ायालेकिनमरयमनेखुदअपनीपरीक्षाअंग्रेजीमेंदी।उन्होंनेकहाकिवहहमेशासेहीअंग्रेजीकोलेकरबहुतउत्साहितरहतीथी।घरकेबाहरनिकलनेकीभीथीपाबंदीलखनऊमेंजन्मीमरयमकेआठभाईबहनहैं।उन्होंनेअपनेभाईयोंकोडॉक्टरऔरव्यवसायीबनतेहुएदेखा।उन्होंनेकहा,'उनदिनोंलड़कियोंकोघरकेबाहरनिकलनेकीपाबंदीथी,उन्हेंपढ़ानातोदूरकीबात।नवाबोंकाजमानाथा।18सालकीउम्रमेंमेरीशादीनफीसकादरीसेकरदीगई।'पारिवारिकजिम्मेदारियांनिभाईंमरयमनेबतायाकिउन्हेंउनकेप्यारेपतिकाहमेशासपॉर्टमिला।वहघरपरिवारकीजिम्मेदारियोंकेबीचकुछनहींकरसकीं।बच्चोंकोपालने-पोसनेमेंलगीरहीं।उन्होंनेबताया,'मैंअपनेबच्चोंकोपढ़ाती।थोड़ाबड़ेहोनेपरउनसबकीशादीकरदी।उनकेबच्चेहोगए।'बच्चेपढ़करअच्छीपोस्टपरमरयमकेबेटेआईटीप्रफेशनल्सहैं।उनकीएकबेटीचार्टेडअकाउंटेंटहैऔरदूसरीदुबईमेंकंप्यूटरसाइंसकीप्रफेसरहै।उन्होंनेकहा,'मेरीबेटीनेमेरीमददकीऔरमेराउत्साहवर्धनकिया।बेटियांमुझसेलगातारकहतीकिआपकोपढ़नालिखनापसंदहै,आपपरीक्षाक्योंनहींपासकरतीं?'रोजदोघंटेकीकोचिंगकीमयरमनेकोचिंगजॉइंनकी।हफ्तेमेंछहदिनदोघंटेकीकोचिंगपढ़नेलगीं।'मेरेटीचरनेकहाकिआपकेपासकोईऔपचारिकशिक्षानहींहैं,आपओपनस्कूलसेपरीक्षादेकरहाईस्कूलपासकरलीजिए।उन्होंनेमुझसेपिछलेसालअप्रैलमेंयहबातकही।काफीसोचनेकेबादमैंनेहाईस्कूलकीपरीक्षादेनेकाफैसलालिया।'