कोविड-19 से पहले के स्तर पर पहुंची पेट्रोल की मांग, डीजल की खपत में कमी जारी

कोविड-19केकारणठपपड़ीआर्थिकगतिविधियोंमेंधीरे-धीरेतेजीआनेलगीहै।पेट्रोल-डीजलकीबिक्रीसेइसकासंकेतमिलाहै।इंडस्ट्रीकेप्रारंभिकडाटाकेमुताबिक,सितंबरकेपहलेहाफमेंपेट्रोलकीबिक्रीकोविड-19सेपहलेकेस्तरपरपहुंचगईहै।मार्चमेंकोविड-19संक्रमणकेमामलोंकीसंख्याबढ़ीथी।इसकेबादसरकारनेमार्चकेअंतमेंदेशव्यापीलॉकडाउनलगादियाथा।

सितंबरकेपहलेहाफमेंपेट्रोलकीबिक्री2.2%बढ़ी

डाटाकेमुताबिक,एकसालपहलेकीसमानअवधिकेमुकाबलेसितंबरकेपहलेहाफयानी1से15सितंबरकेबीचपेट्रोलकीबिक्रीमें2.2फीसदीकीबढ़ोतरीहुईहै।पिछलेमहीनेअगस्तकेमुकाबलेबिक्रीमें7फीसदीकाइजाफाहुआहै।वहीं,डीजलकीबिक्रीमेंगिरावटकादौरजारीहै।एकसालपहलेकीसमानअवधिकेमुकाबलेसितंबरकेपहलेहाफमेंडीजलकीबिक्रीमें6फीसदीकीगिरावटरहीहै।हालांकि,अगस्त2020केमुकाबले19.3फीसदीकीबढ़ोतरीरहीहै।

25मार्चकेबादपहलीबारबढ़ीपेट्रोलकीबिक्री

25मार्चकोदेशव्यापीलॉकडाउनकेबादयहपहलामौकाहैजबदेशमेंपेट्रोलकीबिक्रीबढ़ीहै।सितंबरकेपहलेहाफमेंकुल9.65लाखटनपेट्रोलकीबिक्रीहुईहै।एकसालपहलेसमानअवधिमें9.45लाखटनपेट्रोलकीबिक्रीहुईथी।वहीं,अगस्त2020केपहलेहाफमें9लाखटनपेट्रोलकीबिक्रीहुईथी।देशमेंसबसेज्यादाखपतवालेफ्यूलडीजलकीबिक्रीसितंबरकेपहलेहाफमें2.13मिलियनटनरहीहै।एकसालपहलेसमानअवधिमें2.25मिलियनटनडीजलकीबिक्रीहुईथी।अगस्त2020केपहलेहाफमें1.78मिलियनटनडीजलकीबिक्रीरहीथी।

स्थानीयलॉकडाउनसेप्रभावितहोरहीबिक्री

इंडस्ट्रीसेजुड़ेसूत्रोंकाकहनाहैकिलॉकडाउनकेदौरानलगाएगएप्रतिबंधोंकेजूनसेहटनेकेबादभारतीयअर्थव्यवस्थासुधारकीराहपरचलपड़ीहै।लेकिनराज्योंकीओरसेलगाएजारहेस्थानीयलॉकडाउनकेकारणपेट्रोल-डीजलसमेतअन्यफ्यूलकीमांगप्रभावितहोरहीहै।सूत्रोंकेमुताबिक,लोगआवाजाहीकेलिएसार्वजनिकवाहनोंकेबजाएप्राइवेटवाहनोंकोप्राथमिकतादेरहेहैं।इसकारणपेट्रोलकीबिक्रीबढ़ीहै।

जेटफ्यूलकीबिक्रीमें60%कीगिरावट

डाटाकेमुताबिक,एकसालपहलेकीसमानअवधिकेमुकाबलेसितंबरकेपहलेहाफमेंजेटफ्यूलकीबिक्रीमें60फीसदीकीगिरावटरहीहै।सितंबरकेपहलेहाफमें1.25लाखटनजेटफ्यूलकीबिक्रीरहीहै।अगस्त2020केपहलेहाफकी1.03लाखटनकेमुकाबले15फीसदीज्यादाहै।एलपीजीकीबिक्रीमेंवार्षिकआधारपर12.5फीसदीऔरमासिकआधारपर13.5फीसदीकीबढ़ोतरीरहीहै।